सुब्रह्मण्यन चंद्रशेखर एक महान वैज्ञानिक

बच्चो हमारे देश में कई महान वैज्ञानिक हुए हैं | उन्ही में से एक हैं सुब्रह्मण्यन चंद्रशेखर | गूगल ने सुब्रह्मण्यन चंद्रशेखर की 110 वीं जयंती पर को अपना डूडल इनको समर्पित किया, सुब्रह्मण्यन चंद्रशेखर “सितारों की संरचना और विकास के लिए महत्वपूर्ण भौतिक प्रक्रियाओं के सैद्धांतिक अध्ययन के लिए” भौतिकी के लिए नोबेल पुरस्कार दिया गया था। आइये हम भी इस प्रसिद्ध वैज्ञानिक के बारे में जानते हैं |

प्रारंभिक जीवन एवं परिवार (Early Life) –

सुब्रह्मण्यन चंद्रशेखर का जन्म 19 अक्टूबर 1910 को लाहौर के एक तमिल परिवार में हुआ था यह अब पाकिस्तान में है | वह सी सुब्रह्मण्यन अय्यर और शीतलक्ष्मी (दिवान बहादुर) बालकृष्णन के बड़े बेटे थे। उनकी छह बहनें और तीन भाई थे। वह नोबेल पुरस्कार विजेता भारतीय भौतिक वैज्ञानिक सी वी रमन के भतीजे थे । सी वी रमन को सन 1930 में प्रकाश प्रकीर्णन (रमन प्रभाव ) के लिए नोबेल पुरूस्कार मिला था | उनकी प्रारंभिक शिक्षा घर पर ही हुई । इसके बाद चंद्रशेखर ने 1930 में चेन्नई (तब मद्रास) के प्रेसीडेंसी कॉलेज से स्नातक की पढ़ाई पूरी की। सरकार द्वारा उन्हें छात्रवृत्ति प्रदान करने के बाद उन्होंने कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में उच्च अध्ययन किया। उन्होंने 1933 में पीएचडी की पढ़ाई पूरी की। उनका विवाह मद्रास की ललिता डोराविस्वामी से हुआ |

विज्ञान में सुब्रह्मण्यन चंद्रशेखर का योगदान (Subrahmanyan Chandrasekhar’s contribution to science)-

 कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय में एक शोधकर्ता के रूप में काम करते हुए, चंद्रशेखर ने अपनी सबसे महत्वपूर्ण खोज की, जिसे चंद्रशेखर लिमिट के नाम से जाना गया। लेकिन उनके सहयोगियों ने उनकी खोज पर संदेह किया और उनका मज़ाक उड़ाया |  ओपन यूनिवर्सिटी के अनुसार, अंग्रेजी खगोलशास्त्री सर आर्थर एडिंगटन ने 11 जनवरी, 1935 को लंदन में रॉयल एस्ट्रोनॉमिकल सोसाइटी में अपने निष्कर्षों को प्रस्तुत करने के लिए चंद्रशेखर को राजी किया।  30 से अधिक वर्षों के बाद, 1966 में, कंप्यूटर और हाइड्रोजन बम के अनुसंधान के पश्चात सुब्रह्मण्यन चंद्रशेखर को उनके कार्य का श्रेय मिल पाया |  सन 1972 में उनकी ब्लैक होल की जानकारी के लिए दिए गये चंद्रशेखर के सिद्धांत को पहचाना गया | उनकी इस खोज से सुपरनोवा, न्यूट्रॉन सितारों और ब्लैक होल को समझने में काफी मदद मिली |

अन्य कार्य (Other Works )-

1937 में, चंद्रशेखर अमेरिका चले गए और शिकागो विश्वविद्यालय में काम करना शुरू कर दिया। द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान, उन्हें परमाणु बम बनाने के लिए लॉस एलामोस में मैनहट्टन परियोजना में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया गया था, लेकिन कुछ सुरक्षा कारणों से वो जा नहीं पाए . फिर भी, चंद्रशेखर ने युद्ध के प्रयास में योगदान दिया, मैरीलैंड में बैलिस्टिक अनुसंधान प्रयोगशाला के लिए काम किया। 1953 में, अमेरिका आने के 16 साल बाद, चंद्रशेखर को अमेरिकी नागरिकता प्रदान की गई।

मृत्यु (Death ) –

21 अगस्त 1995 को 85 वर्ष की आयु में दिल का दौरा पड़ने से शिकागो में उनका निधन हो गया।

आओ बच्चो अब आपको बताते हैं की वो क्या खोज थी जिसके लिए चंद्रशेखर को नोबेल पुरुस्कार मिला था |

चंद्रशेखर सीमा क्या है (What is ‘Chandrashekhar Limit )–

सुब्रह्मण्यन चंद्रशेखर बीसवीं सदी के सबसे महत्वपूर्ण खगोलविदों में से एक थे। चंद्रा ने साबित किया कि श्वेत वामन (White dwarf) के द्रव्यमान की ऊपरी सीमा थी। यह सीमा, जिसे’ चंद्रा सीमा ‘ या ‘ चंद्रशेखर सीमा ‘ के रूप में जाना जाता है, ने दिखाया कि सूर्य की तुलना में बड़े पैमाने पर तारे विस्फोट होते रहते हैं | इस कारण ब्लैक होल बनते हैं । सूर्य के द्रव्यमान का 1.4 गुना – “चंद्रशेखर सीमा” के रूप में जाना जाता है, और यह हमारे ब्रह्मांड में सितारों के विकास को समझने में सहायक है | इस सीमा से परे, जीवन के अंत में तारे या तो सुपरनोवा में विस्फोट हो जाते हैं या उनमे स्वयम विस्फोट हो जाता है , और फिर तारे एक ब्लैक होल में समा जाते हैं। ब्लैक होल क्या होते हैं ये जानने के लिए पढ़े – http://blog.scienceshala.com/black-hole/79/ चंद्रा ने ब्लैक होल, सूर्य की रोशनी , तारों की संरचनाओं और तारों के द्रव्यमान के लिए कई सिद्धांत विकसित किए। 1983 में चंद्रा को सितारों की संरचना और विकास में शामिल भौतिक प्रक्रियाओं पर उनके काम के लिए भौतिकी में नोबेल पुरस्कार दिया गया था |

सम्मान – (Awards and Honors)

जब चंद्रशेखर 43 वर्ष के थे, उन्हें रॉयल एस्ट्रोनॉमिकल सोसाइटी के स्वर्ण पदक से सम्मानित किया गया। 56 वर्ष की आयु में, उन्हें खगोल विज्ञान, भौतिकी और अनुप्रयुक्त गणित में योगदान देने के लिए विज्ञान के राष्ट्रीय पदक से सम्मानित किया गया। 61 वर्ष की आयु में, उन्हें अपने नेतृत्व के लिए, और खगोल भौतिकी के क्षेत्र में प्रमुख योगदान के लिए यूएस नेशनल एकेडमी ऑफ साइंस से ड्रेपर मेडल से सम्मानित किया गया था। 1983 में, 73 वर्ष की आयु में, चंद्रशेखर ने अपने “सितारों की संरचना और विकास के लिए महत्वपूर्ण भौतिक प्रक्रियाओं के सैद्धांतिक अध्ययन” के लिए विलियम फाउलर के साथ भौतिकी में नोबेल पुरस्कार प्राप्त किया। अपनी खोजों के लिये डॉ॰ चंद्रशेखर को भारत में भी सम्मानित किया गया , परन्तु 1930 में अपने अध्ययन के लिये भारत छोड़ने के बाद वे बाहर के ही होकर रह गए और लगनपूर्वक अपने अनुसंधान कार्य में जुट गए। चंद्रशेखर ने खगोल विज्ञान के क्षेत्र में तारों के वायुमंडल को समझने में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया और यह भी बताया कि एक आकाश गंगा में तारों में पदार्थ और गति का वितरण कैसे होता है। रोटेटिंग प्लूइड मास तथा आकाश के नीलेपन पर किया गया उनका शोध कार्य भी प्रसिद्ध है। डॉ॰ चंद्रा विद्यार्थियों के प्रति भी समर्पित थे। 1957 में उनके दो विद्यार्थियों त्सुंग दाओ ली तथा चेन निंग येंग को भौतिकी के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया। सन 1969 में जब उन्हें भारत सरकार की ओर से पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया, तब तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी ने उन्हें पुरस्कार देते हुए कहा था, यह बड़े दुख की बात है कि हम चंद्रशेखर को अपने देश में नहीं रख सके। पर मैं आज भी नहीं कह सकती कि यदि वे भारत में रहते तो इतना बड़ा काम कर पाते। अपने अंतिम साक्षात्कार में उन्होंने कहा था, यद्यपि मैं नास्तिक हिंदू हूं पर तार्किक दृष्टि से जब देखता हूं, तो यह पाता हूं कि मानव की सबसे बड़ी और अद्भुत खोज ईश्वर है। सौजन्य http://www.wikipedia.com

पत्रिका सम्पादन के कार्य –

उन्होंने सन 1952 से 1971 तक ‘एस्ट्रोफिजिक्स’ पत्रिका के प्रबंध संपादकके रूप में कार्य किया | शिकागो विश्वविद्यालय की एक पत्रिका को अमेरिकन एस्ट्रोनॉमिकल सोसायटी की राष्ट्रीय पत्रिका में बदल दिया। चंद्रशेखर के नेतृत्व में, पत्रिका शिकागो विश्वविद्यालय से आर्थिक रूप से स्वतंत्र हो गई। पत्रिका के लिए उन्होंने ‘ 500,000′ डॉलर का आरक्षित कोष छोड़ा था ।

– सुब्रमण्यन चंद्रशेखर के कुछ उद्धरण (Quotes of Dr. Chandra )

मैं किसी भी मायने में धार्मिक नहीं हूं; वास्तव में, मैं खुद को नास्तिक मानता हूं। ” – सुब्रमण्यन चंद्रशेखर “मुझे व्यक्तिगत टिप्पणी के साथ अपनी टिप्पणी को प्रस्तुत करना चाहिए ताकि मेरी बाद की टिप्पणी गलत न समझी जाए। मैं खुद को नास्तिक मानता हूं। ” – सुब्रमण्यन चंद्रशेखर मेरे पूरे वैज्ञानिक जीवन में, पैंतालीस से अधिक वर्षों में, सबसे बिखरने वाला अनुभव यह एहसास रहा है कि आइंस्टीन के सामान्य सापेक्षता के समीकरणों का एक सटीक समाधान, न्यूजीलैंड के गणितज्ञ रॉय केर द्वारा खोजा गया, यह अनकही संख्याओं के लिए पूर्ण सटीक प्रतिनिधित्व प्रदान करता है बड़े पैमाने पर ब्लैक होल जो ब्रह्मांड को आबाद करते हैं। यह “सुन्दरता के पहले की कंपकंपी,” यह अविश्वसनीय तथ्य है कि गणित में सुंदर के बाद एक खोज से प्रेरित एक खोज को प्रकृति में इसकी सटीक प्रतिकृति मिलनी चाहिए, मुझे यह कहने के लिए राजी करती है कि सुंदरता वह है जिसके लिए मानव मन सबसे गहरी और सबसे अधिक प्रतिक्रिया करता है । ” – सुब्रमण्यन चंद्रशेखर “वास्तव में, तारकीय परिस्थितियों के तहत मामला आम तौर पर इतना आयनित होता है ,रासायनिक संरचना में अनिश्चितता अनिवार्य रूप से दो सबसे हल्के तत्वों, अर्थात् हाइड्रोजन की प्रचुरता में अनिश्चितता के कारण है। हीलियम, सबसे हल्के तत्वों की बहुतायत, तब चर्चा में एक नया पैरामीटर माना जाता है। हम इस प्रकार संक्षेप में कह सकते हैं कि हमारी मूलभूत समस्या इस प्रकार के सैद्धांतिक संबंध की तलाश करना है F [L, M, R, हाइड्रोजन और हीलियम की बहुतायत] = 0. ”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *