अन्तरिक्ष स्टेशन क्या है ? (What is Space Station )


अन्तरिक्ष स्टेशन क्या है ? (What is Space Station )

अन्तरिक्ष स्टेशन को एक Orbital Space Station भी कहा जाता है | इनका निर्माण इसलिए किया जाता है ताकि मानव लम्बे समय तक अन्तरिक्ष में रुक कर काम कर सके | इसमें अन्य अन्तरिक्ष यान ( Space Ship )जाकर भी मिल सकता है , यानि आवश्यकता पड़ने पर कोई अन्तरिक्ष यान इस पर उतर सकता है | यहाँ अंतरिक्षयात्रियों के रुकने के लिए सभी आवश्यक सुविधाएँ मौजूद होती हैं | Space Station को पृथ्वी के   Low orbit कक्षा में बनाया जाता है |

अन्तरिक्ष स्टेशन को क्यूँ बनाया जाता है – (What is the need of Space Station )

Space Station की स्थापना का मुख्य उद्देश्य हैं –

अन्तरिक्ष से पृथ्वी के सर्वेक्षण  हेतु |

अन्तरिक्ष के रहस्यों की खोज हेतु |

Space Station में सूक्ष्म गुरुत्वाकर्षण, अंतरिक्ष पर्यावरण, खगोल विज्ञान, खगोल विज्ञान, मौसम विज्ञान, भौतिकी और कई अन्य क्षेत्रों में काफी कार्य हुआ है । हाल ही में, एक महत्वपूर्ण प्रयोग में, स्टेशन के बाहर बैक्टीरिया को छोड़ दिया गया, जो तीन साल तक जीवित रहा।

अन्तरिक्ष में अभी कितने Space Station हैं – (How many Space Stations are in Space ?)

अभी तक अन्तरिक्ष में दो Space Station है |

International Space Station –

बाहरी अंतरिक्ष में  Space Station स्थल है जिसे पृथ्वी की निकटतम कक्षा में रखा गया है।    इसे  20 नवम्बर 1998 को अन्तरिक्ष में स्थापित किया गया था | इसे पृथ्वी से भी देखा जा सकता है | International Space Station  कार्यक्रम दुनिया की कई अंतरिक्ष एजेंसियों की संयुक्त परियोजना  है। रूस की रूसी संघीय अंतरिक्ष एजेंसी (RKA), जापान एयरोस्पेस एक्सप्लोरेशन एजेंसी (JAXA), कनाडा की कनाडाई अंतरिक्ष एजेंसी (CSA) और यूरोपीय देशों की संयुक्त यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (ESA) इसे बनाने के लिए संयुक्त राज्य के NASA के साथ काम कर रही हैं। । इनके अलावा, ब्राजील की अंतरिक्ष एजेंसी (AEB) भी नासा के साथ कुछ अनुबंधों के साथ काम कर रही है। इसी तरह, इतालवी अंतरिक्ष एजेंसी (एएसआई) भी कुछ अलग अनुबंधों के साथ काम कर रही है।

यह 24,726 किमी प्रति घंटे की औसत गति से पृथ्वी के लगभग 350 किमी ऊपर घूमेगा और प्रतिदिन 15.7 चक्कर लगाता है । इसका वज़न लगभग 391000 किलोग्राम है | अंतिम International Space Station के बाद से, जिसे नवंबर 2000 में कक्षा में स्थापित किया गया था, इसमें लगातार मानव उपस्थिति थी। वर्तमान में, यहाँ  तीन अन्तरिक्ष यात्री रुक सकते हैं । भविष्य में, यहाँ  छह व्यक्ति रुक पाएँगे  । International Space Station  अंतरिक्ष में एक  Laboratry के रूप में कार्य करता है।इसमें अन्तरिक्ष यात्रियों के लिए कई सुविषाएं मौजूद हैं  जिससे इसमें  रहने वाले अंतरिक्ष यात्रियों को लंबे समय तक अंतरिक्ष में काम करने का अवसर मिलता है।

Tiangong-1 

यह China का Space Station है |

चीन का Prototype स्पेस station , जिसे “Heavenly Palace ” भी कहा जाता है, यह अप्रैल 2018 में पृथ्वी के वायुमंडल में दक्षिण प्रशांत महासागर में गिर गया। आपको बता दें कि यह 10.4 मीटर लंबा स्पेस स्टेशन चीन ने 2011 में लॉन्च किया था। China National Space Administration  के मुताबिक, चीन की स्पेस एजेंसी, Tiangong-1  ,1 का मार्च 2016 से संपर्क टूट गया था। जिसके बाद से यह अंतरिक्ष में घूम रहा था। Tiangong-1  लगभग 34 फीट लंबा 11 फीट चौड़ा था और इसका वजन 9 टन (8 मीट्रिक टन  था  |  

China Manned Space Engineering Office ने जुलाई 2019 में यह घोषणा की है कि वह जल्दी ही Tiangong-2  की योजना बना रहे हैं |  

कुछ प्रमुख अन्तरिक्ष यात्री जो Space Station पर रह चुके हैं –

18 देशों के 230 लोगों ने International Space Station  का दौरा किया है। भारत की कल्पना चावला और सुनीता विलियम्स ने भी इस पर यहं आकर  कार्य किया है।कल्पना चावला की 1 फरबरी 2003 के दिन  Space Shuttle Columbia में एक हादसे में मौत हो गई थी |

 पैगी व्हिटसन ने 2 सितंबर 2017 को 665 दिनों में अंतरिक्ष में रहने और काम करने के लिए सबसे अधिक समय के लिए रिकॉर्ड बनाया। पूरे स्टेशन में केवल दो बाथरूम हैं। अंतरिक्ष यात्रियों और प्रयोगशाला जानवरों के मूत्र को फ़िल्टर्ड किया जाता है और फिर से स्टेशन के ड्रिबलिंग जलापूर्ति के लिए चला जाता है, ताकि अंतरिक्ष यात्रियों को पानी की कमी का सामना न करना पड़े। इस स्टेशन में ऑक्सीजन इलेक्ट्रोलिसिस की प्रक्रिया के माध्यम से आता है। Space Center  चंद्रमा और शुक्र के बाद आकाश में चमकने वाला  तीसरा सबसे चमकदार  Satellite है । जब कोई भी अंतरिक्ष यात्री किसी भी समय अंतरिक्ष से बाहर निकलता है, तो इसे Space Walk  कहते हैं।  18 मार्च, 1965 को रूसी अंतरिक्ष यात्री अल्केशी लियोनोव ने पहली बार अंतरिक्ष यात्रा की थी। 

अन्तरिक्ष यात्री कैसे रहते हैं Space Station  में –

Source http://www.nasa.gov

अंतरिक्ष में अंतरिक्ष यात्री कैसे रहते हैं, यह बताते हुए सुनीता विलियम्स ने बताया कि Space Station उन लोगों के लिए घर जैसा है। यहां उनके पास एक छोटा सा फोन बूथ जैसा स्थान है जहां वे सभी समान रखे जाते हैं, सोने के लिए एक जगह है और वे इस बूथ का उपयोग Office  के रूप में भी करते हैं। सोने के लिए आपको खुद को Sleeping Bag  के अंदर पैक करना होगा ताकि आप एक जगह पर रहें।

Space  में गुरुत्वाकर्षण (Gravitational force ) नहीं है, इसलिए भारहीनता की स्थिति है। ऐसी स्थिति में आप हवा में तैरते रहते हैं। यहां आप उल्टे हैं या सीधे तौर पर इससे कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि दोनों ही स्थितियों में आपके शरीर पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।

यहाँ भी बाथरूम होता  है और एक किट मौजूद होता  है जिसमें ब्रश और टूथपेस्ट जैसी आवश्यक चीजें होती  हैं। ब्रश करने के लिए सबसे पहले पेस्ट को ब्रश में लगाना होता है, सब कुछ तैरता रहता है लेकिन पेस्ट हवा में नहीं तैरता क्योंकि यह चिपचिपा होता है। पेस्ट को ब्रश पर लगाने के बाद, पानी के लिए पानी की किट का उपयोग करते हैं ।

इस किट के साथ, पानी भी तरल रूप में बाहर आता है और बुलबुले की तरह तैरने लगता है, जिसे आपको पीना होता  है। आमतौर पर हम ब्रश करने के बाद इसे थूकते हैं लेकिन अंतरिक्ष स्टेशन में इसके दो विकल्प हैं। या तो आप पेस्ट को निगल लें या इसे टॉवल पेपर में थूक दें।

हैं न बड़ी ही मजेदार और Challeging life .

भारत भी जल्द ही अपना Space Station शुरू करने वाला है –

Indian Space Research Organisation ने घोषणा की है कि सन 2029 तक भारत भी अपना Space Station शुरू करेगा | भारतीय अंतरिक्ष स्टेशन पृथ्वी से 400 किमी की ऊंचाई पर स्थापित किया जाएगा। इसमें अंतरिक्ष यात्री 15 से 20 दिनों तक रह सकेंगे। ISRO  प्रमुख K.Siwan  ने घोषणा की कि भारत के प्रस्तावित अंतरिक्ष स्टेशन का वजन लगभग 20 टन होगा।

भारत को क्या लाभ होंगे इस Space Station से –

Space Station से भारत को कई लाभ होंगे  । इससे न केवल Space  में बल्कि पृथ्वी पर भी निगरानी रखने की भारत की क्षमता में बढ़ोत्तरी होगी । हमारे वैज्ञानिक इस स्टेशन पर कई तरह के प्रयोग कर सकेंगे। उनके परिणामों का व्यापक रूप से उपयोग किया जा सकता है। Space Station  में लगे कैमरे से भारत को अच्छी क्वालिटी की तस्वीरें मिल सकेंगी। जिससे भारत की सुरक्षा में सहायता मिलेगी । Space Statio की सहायता से, India आसानी से अपने दुश्मन देशों पर नजर रख सकता है। इसके साथ, सीमाओं की निगरानी के लिए Satellite  को बार-बार अंतरिक्ष में भेजने की ज़रूरत नहीं होगी। इससे खर्च भी कम होगा। खास बात यह है कि इससे दुनिया में अंतरिक्ष शक्ति के रूप में भारत की ताकत बढ़ेगी। स्पेस स्टेशन के निर्माण से 15 हजार लोगों को रोजगार भी मिलेगा।


Like it? Share with your friends!

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win
rishikesh

Choose A Format
Personality quiz
Series of questions that intends to reveal something about the personality
Trivia quiz
Series of questions with right and wrong answers that intends to check knowledge
Poll
Voting to make decisions or determine opinions
Story
Formatted Text with Embeds and Visuals
List
The Classic Internet Listicles
Countdown
The Classic Internet Countdowns
Open List
Submit your own item and vote up for the best submission
Ranked List
Upvote or downvote to decide the best list item
Meme
Upload your own images to make custom memes
Video
Youtube and Vimeo Embeds
Audio
Soundcloud or Mixcloud Embeds
Image
Photo or GIF
Gif
GIF format